3 Shri Krishna Morning Bhajans

1
SHARE
SHARE
Previous articleकैसा है श्रीगणेश का दिव्यलोक?
Next articleश्राद्ध की वस्तुएं पितरों को कैसे मिलती हैं?

श्रीराधाष्टमी के पावन अवसर पर मैं अपना प्रथम ब्लॉग श्रीयुगल चरणों में समर्पित करती हूँ । मनुष्य के आत्म विकास के लिए जीवन में दैवीय गुणों को ग्रहण करना एकमात्र श्रेष्ठ और सरल उपाय है । इसी सत्य को जानकर चालीस साल पहले मेरी रूचि विभिन्न पुराणों व धार्मिक पुस्तकों को पढ़ने में हुई । उसी ज्ञान को आप सब लोगों को अवगत कराने के पावन उद्देश्य से मैंने यह ब्लॉग लिखने का निर्णय लिया है । आशा करती हूँ कि आप मेरे इस प्रयास से अवश्य ही कुछ नयी जानकारी हासिल करेंगे ।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY